Wednesday , October 5 2022

औरैया रत्न खनन कारोबारी मखलू पांडेय के ठिकानों पर विजिलेंस का छापा

एक दिन पहले निलंबित किये गये थे औरैया डीएम


लखनऊ। उत्तर प्रदेश में औरैया के जिलाधिकारी सुनील वर्मा को भ्रष्टाचार के आरोप में निलंबित किये जाने के एक दिन बाद ही उनके करीबी खनन कारोबारियों के ठिकानों पर मंगलवार को सतर्कता (विजिलेंस) विभाग की छापेमारी शुरु हो गई।
इनमें वर्मा द्वारा औरैया रत्न से नवाजे गये खनन कारोबारी मख़लू पांडेय और हरी तिवारी के ठिकानों पर विजिलेंस विभाग की टीमें छापेमारी कर रही हैं। सूत्रों के अनुसार छापेमारी की कार्रवाई के दौरान पांडेय और तिवारी को पूछताछ के लिए उनके घर में ही हिरासत में ले लिया गया है।


औरैया के सीओ प्रदीप कुमार ने बताया कि विजिलेंस विभाग ने छापेमारी के लिये पुलिस बल की मांग की थी। मांग के अनुरूप विजिलेंस को पुलिस बल उपलब्ध करा दिया गया है। समझा जाता है कि विजिलेंस की टीमों ने बीजलपुर घाट पर पांडेय और तिवारी की बालू खदानों पर भी छापेमारी की है। विजिलेंस विभाग की ओर से छापेमारी के बारे में फिलहाल कोई आधिकारिक जानकारी नहीं दी गयी है।


इन दोनों के खिलाफ भ्रष्टाचार की शिकायत पर मंडल आयुक्त राजशेखर की जांच रिपोर्ट पर संज्ञान लेकर योगी सरकार ने सोमवार को वर्मा को निलंबित कर विजिलेंस जांच के आदेश जारी कर दिये। सूत्रों के मुताबिक मंगलवार को सुबह सात बजे ही विजिलेंस की टीम ने स्थानीय पुलिस बल की मौजूदगी में पांडेय के मुरादगंज और तिवारी के बीझलपुर स्थित आवास पर छापेमारी की।


छापेमारी की कार्रवाई शुरु होते ही पांडेय और तिवारी के घर की पुलिस ने घेराबंदी कर दी। प्राप्त जानकारी के मुताबिक पांडेय और तिवारी को घर में ही हिरासत में ले लिया गया है, जिनसे पूछताछ चल रही है।