Friday , September 30 2022

झांसी में बीजेपी जिलाध्यक्ष और विधायक के बीच टेंडर को लेकर रार, यहां राजधानी में दोनों के कारनामों की चर्चा

लखनऊ/झांसी। झांसी में भाजपा के गरौठा विधायक जवाहर लाल राजपूत और ग्रामीण जिलाध्यक्ष जमुना प्रसाद कुशवाहा के बीच झड़प हो गई। मामला गुरुवार शाम सर्किट हाउस का है। दोनों कैबिनेट मंत्री संजय निषाद के इंतजार में बैठे थे। तभी सड़क के टेंडर को लेकर दोनों के बीच तीखी नोकझोंक हो गई। जिसको लेकर शुक्रवार को राजधानी लखनऊ में दिनभर चर्चा होती रही। बताया जा रहा है कि दोनों के खिलाफ कार्रवाई भी संगठन की ओर से की जा सकती है।

दरअसल, झांसी जनपद की मोंठ ब्लॉक के सिमरिया से शाहजहांपुर गांव के बीच बनी सड़क जर्जर हालत में है। स्थानीय गरौठा विधायक ने प्रयास किया तो पीडब्लूडी ने प्रस्ताव बनाकर शासन को भेजा। गरौठा विधायक के पैरवी करने पर बजट मंजूर हो गया। इसका पीडब्ल्यूडी ने टेंडर कर दिया। तब विधायक भूमि पूजन कर आए। वहीं दूसरी ओर जिला पंचायत ने भी उसी सड़क का टेंडर निकाल दिया। ये टेंडर जिलाध्यक्ष की फर्म को मिल गया। तब जिलाध्यक्ष ने भी भूमि पूजन कर दिया। ऐसे में पीडब्ल्यूडी या जिला पंचायत में से किसी एक का टैंडर कैंसिल होगा। इसको लेकर दोनों के बीच विवाद हो गया। बीते दिवस तीन मंत्रियों का झांसी दौरा था। इसलिए भाजपा नेता सर्किट हाउस में एकजुट थे। वहां विधायक राजपूत और जिलाध्यक्ष कुशवाहा का आमना-सामना हो गया। विधायक ने कहा कि हमने पैरवी करके पीडब्ल्यूडी को काम दिलाया है। अगर टेंडर कैंसिल हुआ तो पैसा शासन को वापस चला जाएगा। वहीं, जिला पंचायत का टेंडर कैंसिल हुआ तो पैसा जिला पंचायत के पास ही रहेगा। उस पैसे से दूसरे विकास कार्य किए जा सकेंगे। इसी बात को लेकर दोनों के बीच नौकझौंक हो गई। करीब 5 मिनट तक दोनों के बीच बहस चलती रही।

विधायक बोले- जिला पंचायत थर्ड क्लास सड़क बनाती है
1:10 मिनट के वीडियो में बाएं ओर गरौठा विधायक और दाएं और जिलाध्यक्ष ग्रामीण बैठे हुए दिखाई दे रहे हैं। जबकि बीच में जिला पंचायत अध्यक्ष पवन गौतम बैठे हैं। इसमें विधायक कह रहे हैं कि जिला पंचायत थर्ड क्लास सड़क बनाती है। जबकि जिलाध्यक्ष कह रहे हैं कि पीडब्ल्यूडी से सड़क अच्छी बनाएंगे। हालांकि वीडियो वायरल होने के बाद विधायक और जिलाध्यक्ष ने कहा कि उनके बीच कोई विवाद नहीं है। पार्टी के सभी लोग एक परिवार की तरह हैं।