Friday , September 30 2022

गाजीपुर और चंदौली की जनता के साथ है सरकार : मुख्यमंत्री योगी

लखनऊ/गाजीपुर। उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने बाढ़ प्रभावित इलाकों में जनता की परेशानियों को दूर करने में सरकार का हर स्तर पर जनता को सहयोग मिलने का भरोसा दिलाते हुए कहा है कि संकट के समय सरकार जनता जनार्दन के साथ है।
गाजीपुर और चंदौली में बाढ़ प्रभावित इलाकों का हवाई सर्वेक्षण करने के बाद यहां स्थित बाढ़ राहत केन्द्र में पीड़ितों से मुलाकात कर योगी ने कहा कि संकट के समय मे पूरी सरकार और प्रशासन आपके साथ है, इसको आश्वस्त करने के लिए मैं यहाँ आया हूँ। उन्होंने कहा कि उत्तर प्रदेश में बारिश औसत से कम हुई है,लेकिन ये समस्या राजस्थान और मध्यप्रदेश में अतिरिक्त जल छोड़ने की वजह से उत्पन्न हुई है।
योगी ने कहा कि मध्यप्रदेश और राजस्थान में बारिश ज्यादा हुई है। इसकी वजह से चंबल, बेतवा का जलस्तर बढ़ने से यमुना और गंगा नदियां भी खतरे के निशान से ऊपर बहने लगीं। उन्होंने कहा कि जलस्तर में अचानक इजाफा होने से किसानों का संकट बढ़ा है। प्रदेश में 1100 से अधिक गांव बाढ़ प्रभावित हैं। वहीं, गाज़ीपुर में 07 हजार परिवार प्रभावित हुए हैं।
मुख्यमंत्री ने कहा कि बाढ़ प्रभावितों के लिए आवश्यक राहत कार्य हो रहे हैं। कल हमारे मंत्रीगण ने औरैया, इटावा और हमीरपुर जिलों का दौरा किया। आज मैं खुद यहां आया हूं। हमने पर्याप्त नौकाओं की व्य्वस्था की है। गाज़ीपुर में 288 नौकाओं की व्यवस्था है। गोताखोर और एसडीआरएफ भी तैनात हैं। इन क्षेत्रों में एंटी स्नेक व एंटी रैबीज टीकों की भी व्यवस्था की गयी है। साथ ही भोजन, राशन सामग्री और 15 दिनों के लिये राहत सामग्री भी मुहैया करवायी जा रही है।
योगी ने कहा कि ये आपदा है और आपदा में सरकार आपके साथ खड़ी है। सूखे की समस्या को देखते हुए कल मंत्रिपरिषद की बैठक में 02 हजार क्विंटल तोराई के बीज की व्यवस्था की गयी है। प्रशासन व जनप्रतिनिधियों को जनता जनार्दन की सेवा में लगने को कहा है। डबल इंजन की सरकार आपके साथ हर स्तर पर खड़ी है।
योगी ने इस दौरान गाजीपुर के मोहम्दाबाद तहसील मुख्यालय पर स्थित अष्टशहीद इंटर कॉलेज में बाढ़ राहत शिविर में बाढ़ पीड़ितों से मुलाकात कर उनका हालचाल लिया। इस दौरान जल शक्ति मंत्री स्वतंत्र देव सिंह और सांसद वीरेंद्र सिंह मस्त के अलावा भाजपा के वरिष्ठ नेता एवं आला प्रशासनिक अधिकारी भी मौजूद थे।