Wednesday , October 5 2022

यूपी : भगवान इंद्र पर होगी कार्रवाई ! जिला प्रशासन का आदेश


भगवान इंद्र पर बरसात न करने का आरोप

लखनऊ / गोंडा। भगवान इंद्र को धरती पर बरसात कराने का देवता माना गया है। देश के अन्य हिस्सों में जहां भारी बारिश हो रही है। नदी-नाले उफान पर हैं। वहीं यूपी में बरसात न के बराबर है, जिसके कारण किसान परेशान हैं। ऐसे में गोंडा जिले के एक किसान सुमित कुमार यादव ने करनैल गंज तहसील में आयोजित संपूर्ण समाधान दिवस में अपनी शिकायत दर्ज करवाई। दिवस में मौजूद अफसरों ने किसान की शिकायत को गंभीरता से सुना। किसान ने तहसीलदार को दी अपनी शिकायत में कहा कि मानसून सत्र बीत रहा है। मौसम विभाग की भविष्यवाणी फेल हो रही है। यूपी में पिछले एक महीने से बरसात नहीं हो रही है। बच्चें, औरतें, किसान, जीव-जंतु सभी परेशान हैं, जिसका जिम्मेदार कोई और नहीं बल्कि भगवान इंद्र हैं, क्योंकि उन्हें बरसात कराने का देवता माना गया है, लिहाजा भगवान इंद्र के खिलाफ कड़ी से कड़ी कार्रवाई की जाए। शिकायत का संज्ञान लेते हुए तहसीलदार ने भी भगवान इंद्र के खिलाफ कार्रवाई के लिये किसान के प्रार्थना पत्र को अपने अधीनस्थों को अग्रसारित कर दिया। अब तहसीलदार के अधीनस्थों को यह समझ में नहीं आ रहा। वह भगवान इंद्र के खिलाफ कार्रवाई करें तो कैसे करें। इसका कोई प्रावधान भी नहीं है। इस बारे में जब अधीनस्थों ने तहसीलदार से पूछा साहब आप ही भगवान इंद्र के खिलाफ कार्रवाई का कोई उपाय बताईये तो तहसीलदार के खुद के होश उड़ गये। उन्हें यह समझ में नहीं आ रहा यह आदेश उन्होंने कब और कैसे कर दिया ? बहरहाल इसको लेकर पूरे प्रदेश के प्रशासनिक गलियारे में जोरदार चर्चा चल रही है। गोंडा जिले के करनैलगंज के तहसीलदार साहब भगवान इंद्र के खिलाफ कार्रवाई कर पायेंगे अथवा नहीं। मगर उनके खिलाफ कार्रवाई तो तय मानी जा रही है। वहीं लोगों का कहना है कि ज्यादातर अधिकारी प्रार्थना पत्र बगैर देखे ही अधीनस्थों को अग्रसारित कर देते हैं। उन्हीं में से एक यह तहसीलदार साहब भी हैं।