Tuesday , September 27 2022

कमाई के मामले में द कश्मीर फाइल्स को आरआरआर फिल्म से मिली चुनौती


मुंबई। आरआरआर फिल्म कमाल कर रही है। बॉक्स ऑफिस पर बंपर जीत। 550 करोड़ रुपये के बजट में बनी यह फिल्म 25 मार्च को रिलीज हुई थी, लेकिन महज तीन दिनों में फिल्म ने 450 करोड़ रुपये की कमाई कर नया रिकॉर्ड अपने नाम कर लिया। फिल्म जिस रफ्तार से बॉक्स ऑफिस पर कमाई कर रही है उसे देखते हुए अनुमान लगाया जा रहा है कि इसकी कमाई 2000 करोड़ रुपये से ज्यादा हो सकती है। इस तरह से कह सकते हैं कि कमाई के मामले में द कश्मीर फाइल्स को इस फिल्म से चुनौती मिल रही है। अगर ऐसा होता है तो यह भारतीय सिनेमा के इतिहास में मील का पत्थर साबित होगा। ‘आरआरआर’ की शानदार सफलता का सबसे बड़ा श्रेय इसके निर्देशक एसएस राजामौली को जाता है। ‘बाहुबली’ जैसी बेहतरीन फिल्मों की पेशकश कर भारतीय सिनेमा की दशा और दिशा बदलने वाले राजामौली सफलता की गारंटी देने के लिए जाने जाते हैं। राजामौली उन निर्देशकों में से हैं जिनके फिल्मों में काम करने वाला अभिनेता भी सुपरस्टार बन जाता है। लेकिन राजामौली एक दिन में इस मुकाम तक नहीं पहुंचे हैं।

राजामौली की इस सफलता के पीछे उनकी वर्षों की कठोर तपस्या है। उनके पास लंबी दूरी की सोच है। जब फिल्म ‘बाहुबली’ का निर्माण हो रहा था, उस समय उन्होंने खुद को और पूरी फिल्म क्रू को पांच साल के लिए जेल में डाल दिया था। उन्होंने इन फिल्मों के लिए लगभग 380 दिनों तक लगातार शूटिंग की, जो किसी भी बड़ी हॉलीवुड फिल्म को बनाने में लगने वाले दिनों की संख्या से दोगुना है। किसी फिल्म के प्रति ऐसा समर्पण भारतीय फिल्म उद्योग में काम करने वाले किसी भी निर्देशक में नहीं देखा गया है। इसलिए राजामौली की फिल्में इतिहास रचती हैं। यह बॉक्स ऑफिस पर नए रिकॉर्ड बनाती है। नहीं तो एक निर्देशक की प्रतिष्ठा पर 550 करोड़ रुपये का दांव लगाने के लिए साहस चाहिए। लेकिन दांव लगाने वाला यह भी जानता है कि उसे अपनी फिल्म पर लिया गया हर पैसा वापस मिलेगा। इसके बाद जो फायदा होगा वह सभी को हैरान कर देगा।

कल्पना की दुनिया में सिनेमा बनाएं


फंतासी की दुनिया हर किसी को मंत्रमुग्ध कर देती है। एक अलौकिक दुनिया कल्पना के माध्यम से बनाई गई है। राजामौली इस अलौकिक दुनिया में अपने सिनेमा की रचना के लिए जाने जाते हैं। उनकी फिल्म ‘बाहुबली’ को ही लीजिए। इसमें दिखाए गए माहिष्मती साम्राज्य का वास्तविकता से कोई लेना-देना नहीं है। लेकिन राजामौली ने जिस तरह से इस साम्राज्य का निर्माण किया है, वह वास्तविक प्रतीत होता है। इसी तरह उनकी फिल्म ‘मगधीरा’ में भी फंतासी की दुनिया नजर आती है। इस फिल्म का नायक अपनी प्रेमिका के लिए अकेले ही 100 योद्धाओं से लड़ता है और उसे बचाते हुए मर जाता है। उसके 400 साल बाद उनका फिर से जन्म हुआ है। इस जीवन में एक बार फिर दोनों प्रेमी मिलते हैं और अपने पिछले जन्म की कहानी याद करते हैं। आपको बता दें कि फंतासी एक काल्पनिक विचार है, जिसका कोई वास्तविक रूप नहीं है। एक ऐसी दुनिया की कल्पना करें जो वास्तविक जीवन में शायद ही कभी संभव हो। यह विचार आपको दिमाग के एक कोने में मौजूद रहते हुए जाग्रत आंखों से सपने देखने के लिए मजबूर करता है।

पौराणिक पात्रों का काल्पनिक इतिहास


राजामौली की ज्यादातर फिल्में पौराणिक पात्रों के काल्पनिक इतिहास पर आधारित हैं। एक नजर उनकी दो बॉक्स ऑफिस हिट ‘बाहुबली’ और ‘आरआरआर’ की कहानी पर। फिल्म ‘बाहुबली’ महाभारत की कहानी से प्रेरित है। महाभारत की तरह, कौरवों और पांडवों के बीच साम्राज्य के लिए युद्ध होता है। इसी तरह इस फिल्म में बाहुबली (प्रभास) और भल्लालदेव (राणा दग्गुबाती) के बीच लड़ाई होती है। इसमें राजमाता शिवगामी का चरित्र कुंती और कटप्पा के भीष्म के चरित्र से प्रेरित है। फिल्म ‘आरआरआर’ की कहानी रामायण से प्रेरित है। इसमें अल्लूरी सीताराम का किरदार राजू (राम चरण) श्रीराम, माता सीता के रूप में सीता (आलिया भट्ट) और भीम (एनटीआर जूनियर) के चरित्र हनुमान से प्रेरित है। इस तरह राजामौली पौराणिक पात्रों की काल्पनिक कहानी पर आधारित सिनेमा के माध्यम से दर्शकों को अपनी फिल्म से जोड़ते हैं। उनकी फिल्में लोगों को काफी पसंद आती हैं।

सुंदर सेट, अत्याधुनिक तकनीक का उपयोग


संजय लीला भंसाली बॉलीवुड में बेहतरीन फिल्में बनाने के लिए जाने जाते हैं। लेकिन राजामौली इस मामले में काफी आगे निकल चुके हैं। भव्य सेट और अत्याधुनिक तकनीक के उपयोग के मामले में वह हॉलीवुड फिल्मों के साथ प्रतिस्पर्धा कर रहे हैं। उनकी फिल्म बाहुबली का सेट याद है। हैदराबाद के रामोजी फिल्म सिटी में बनी इस फिल्म के सेट पर पानी की तरह पैसा बर्बाद हुआ। ‘बाहुबली’ पूल 15 हेक्टेयर में लगाया गया था। फिल्म के पहले भाग में महिष्मती साम्राज्य के सेट को बनाने में 28 मिलियन रुपये खर्च किए गए थे। सीक्वल में कुछ नए तत्वों को जोड़ते हुए कई दृश्यों को एक ही सेट पर शूट किया गया था। इसके अलावा एक नया एम्पायर सेट भी तैयार किया गया, जिसकी प्रोडक्शन डिजाइन की लागत 35 करोड़ रुपये थी। इस सेट को 500 लोगों ने करीब 50 दिन में तैयार किया था। उनकी हाल ही में रिलीज हुई फिल्म ‘आरआरआर’ के एक दृश्य के फिल्मांकन पर करोड़ों रुपये खर्च किए गए, जहां भारतीय ब्रिटिश अधिकारियों के खिलाफ विरोध प्रदर्शन कर रहे हैं। राजामौली फिल्मों में विजुअल इफेक्ट्स का काफी इस्तेमाल करते हैं।