Thursday , October 6 2022

होम्योपैथिक के जनक डॉ. हैनीमन को याद किया

लखनऊ। समाज एवं राष्ट्र के व्यापक हित मे चिकित्सकों एवं रोगियों के बीच बिगड़ रहे सम्बन्धो को सौहार्द पूर्ण एवं पवित्र बनाए रखने की जरूरत है और इस पर व्यवसायिकता को हावी नहीं होने देना चाहिये। यह विचार आज हैनिमैन निर्वाण दिवस के अवसर पर मरीज और चिकित्सकों के बीच संबंधो और होम्योपैथी को विश्व में नई उचाईयों तक पहुचानें का संकल्प लिया गया।


होम्योपैथिक मेडिसिन बोर्ड के पूर्व अध्यक्ष प्रोफेसर डॉ. बी0 एन सिंह ने अपने विचार व्यक्त किये। उन्होनें हैनीमन चौराहे पर हैनीमन की मूर्ति पर माल्यार्पण किया, जहां उनके साथ डॉ.अभिषेक वर्मा , डॉ. आशीष वर्मा , डॉ. निशांत श्रीवास्तव , डॉ. फतेह बहादुर वर्मा, डॉ. यू बी त्रिपाठी ,डॉ. एस पी यादव तथा अन्य चिकित्सक और छात्र उपस्थित थे। इस निर्वाण दिवस के अवसर पर स्वर्गिया डॉ. अनुरुद्ध वर्मा जी के द्वारा होम्योपैथी के उन्नति के लिए कार्यो को याद किया गया।