Sunday , September 25 2022

पुलिस वालों ने राजधानी में पूर्व आईपीएस को पीटा, एफआईआर दर्ज करने की मांग

लखनऊ। पुलिस वालों ने किसी और को नहीं, बल्कि जबरिया रिटायर किये गये पूर्व आईपीएस के संग मारपीट और गाली-गलौज की। अब पूर्व आईपीएस ने पुलिस वालों के खिलाफ मुकदमा दर्ज कराने के लिए काननू का सहारा लिया है।
यहां बता दें कि उत्तर प्रदेश के चर्चित आईपीएस रहे अमिताभ ठाकुर ने 27 अगस्त 2021 को उनकी गिरफ्तारी के बाद हजरतगंज थाने में उनके साथ मारपीट और गाली-गलौज का आरोप लगाया है। इस संदर्भ में सीजेएम कोर्ट लखनऊ में धारा 156(3) सीआरपीसी में प्रार्थनापत्र देते हुए एफआईआर की मांग की है।

सीजेएम रवि कुमार गुप्ता ने थाना गोमतीनगर से 24 मई 2022 तक आख्या मांगी है। जबरिया रिटायर आईपीएस अमिताभ ने बताया कि उन्हें 27 अगस्त को दिन में करीब 02.30 बजे घर से उठा कर करीब 03.15 बजे थाना हजरतगंज थाने ले जाया गया था, जहां उनके साथ मारपीट तथा गाली-गलौज की गई उन्होंने कहा कि थाना हजरतगंज की जीडी संख्या 44 में साफ़ लिखा है कि अमिताभ को कोई जाहिर चोटें नहीं थीं।

इसके विपरीत शाम 05.30 बजे सिविल अस्पताल में कराये गए मेडिकल में उनके शरीर पर 06 मल्टीप्ल अब्रेजन की चोटें पायी गयीं, जो अगले दिन 28 अगस्त को जेल में हुए मेडिकल में भी पुष्ट हुआ। अमिताभ ने इन चोटों को थाने में हुई मारपीट का नतीजा बताते हुए तत्काल एफआईआर की मांग की है। उन्होंने पहले पुलिस कमिश्नर लखनऊ को प्रार्थनापत्र भी दिया था। मगर कोई कार्रवाई नहीं की गई।