Sunday , September 25 2022

डाक टिकट पर धर्म सम्राट स्वामी करपात्री जी का चित्रप्रकाशन

प्रतापगढ़ जनपद का है सम्मान – किसान पीठाधीश्वर योगीराज सरकार

प्रतापगढ। अवध की माटी में जन्मे धर्मसम्राट स्वामी करपात्री जी महाराज पर भारत सरकार द्वारा डाक टिकट जारी किया गया, जिसे केन्द्रीय रक्षा मंत्री श्री राजनाथ सिंह ने सर्वप्रथम प्रकाशित किया। करपात्री जी के शिष्यों और समर्थकों में हर्ष की लहर का संचार है। जनपदवासियों की ओर से केन्द्रीय सरकार के प्रति धन्यवाद ज्ञापित किया गया है।

विश्व के पहले किसान देवता मंदिर के किसान पीठाधीश्वर योगीराज सरकार ने कहा कि जनपद प्रतापगढ़ (उत्तर प्रदेश) की मातृभूमि ग्राम भटनी में जन्मे संत शिरोमणि ने सिर्फ धर्म सभा से ही वास्ता नहीं रखा वरन् भारत की आजादी की लड़ाई में सक्रिय भूमिका निभाई । देश सेवा के लिए स्वतंत्रता के बाद राजनीति में भी सक्रिय हुए, पार्टी बनाई, कई राज्यों में विधायक चुनाव जीतकर आये।
देशव्यापी गौरक्षा आन्दोलन भी स्वामी करपात्री जी ने चलाया था। इन्दिरा गांधी सरकार के खिलाफ संसद मार्च के दौरान दर्जनों साधु संत पुलिस गोलीकाण्ड में मारे गये थे। स्वामी जी का मूल नाम हरि नारायण ओझा था , मगर सन्यास के बाद ये हरिहरानन्द सरस्वती बन गये । हथेली पर एक बार में जितना भोजन आ जाये, हाथ को ही खाने के बर्तन की तरह उपयोग करने के कारण ये करपात्री नाम से भारत वर्ष में प्रसिद्ध हुए।