Sunday , September 25 2022

नेल्सन मंडेला अंतर्राष्ट्रीय दिवस : रंगभेद को मिटाने पर मिला नोबल पुरस्कार

नई दिल्ली।

नेल्सन मंडेला अन्तर्राष्ट्रीय दिवस प्रति वर्ष 18 जुलाई को मनाया जाता है, जो संयुक्त राष्ट्र द्वारा शान्ति के लिये नोबल पुरस्कार विजेता पूर्व दक्षिण अफ्रीकी राष्ट्रपति नेल्सन मंडेला के जन्म दिवस की यादगार में मनाया जाता है।

नेल्सन मंडेला दक्षिण अफ्रीका के प्रथम अश्वेत भूतपूर्व राष्ट्रपति थे। नेल्सन मंडेला का जन्म बासा नदी के किनारे ट्रांस्की के मवेंजो गांव में 18 जुलाई, 1918 को हुआ था। राष्ट्रपति बनने से पूर्व वे दक्षिण अफ्रीका में सदियों से चल रहे रंगभेद का विरोध करने वाले अफ्रीकी नेशनल कांग्रेस और इसके सशस्त्र गुट उमखोंतो वे सिजवे के अध्यक्ष रहे। रंगभेद विरोधी संघर्ष के कारण उन्होंने 27 वर्ष रॉबेन द्वीप के कारागार में बिताये जहाँ उन्हें कोयला खनिक का काम करना पड़ा था। 1990 में श्वेत सरकार से हुए एक समझौते के बाद उन्होंने नये दक्षिण अफ्रीका का निर्माण किया। वे दक्षिण अफ्रीका एवं समूचे विश्व में रंगभेद का विरोध करने के प्रतीक बन गये। संयुक्त राष्ट्रसंघ ने उनके जन्म दिन को नेल्सन मंडेला अन्तर्राष्ट्रीय दिवस के रूप में मनाने का निर्णय लिया। नेल्सन मंडेला दक्षिण अफ़्रीका के भूतपूर्व राष्ट्रपति थे। नेल्सन मंडेला यहाँ के प्रथम अश्वेत राष्ट्रपति बने थे। उन्होंने अपनी ज़िंदगी के 27 वर्ष रॉबेन द्वीप पर कारागार में रंगभेद नीति के ख़िलाफ़ लड़ते हुए बिताए।

यहां बता दें कि संयुक्त राष्ट्र महासभा ने नवंबर, 2009 में प्रतिवर्ष 18 जुलाई को ‘नेल्सन मंडेला अंतर्राष्ट्रीय दिवस’ मनाने की घोषणा की थी। यह दिवस पहली बार 18 जुलाई, 2010 को मनाया गया था। प्रस्ताव पारित करते हुए महासभा के अध्यक्ष अली ट्रेकी ने कहा कि अंतरराष्ट्रीय समुदाय ‘एक महान व्यक्ति’ के कार्यों की प्रशंसा करता है, जिसने हमेशा दूसरे लोगों के लिए काम किया।