Thursday , September 29 2022

हरतालिका तीज : जानें शुभ मुहूर्त, अखंड शौभाग्यवती भव के लिए रखें व्रत और करें पूजा-पाठ

लखनऊ। हरतालिका तीज के अवसर पर हर महिला का उद्देश्य होता है कि वह अपने व्रत और पूजा से माता पार्वती और भगवान शिव को प्रसन्न कर ले। जिससे उसके मन की मुरादें पुरी हो जाएं. कोई अपने पति की लंबी आयु की कामना करता है तो कोई मनचाहे वर की कामना से निर्जला व्रत रखता है।

एस्ट्रो आत्मा राम पाण्डेय जी ने बताया कि भाद्रपद मास में शुक्ल पक्ष, तृतीया तिथि को हरतालिका तीज व्रत रखा जाता है। इस दिन भगवान शिव, माता पार्वती की मिट्टी की मूर्तियां बनाकर पूजा की जाती है. विवाहित महिलाएं सुखी वैवाहिक जीवन के लिए जबकि अविवाहित लड़कियां अपने पसंद के साथी की कामना के साथ यह व्रत करती हैं. इस बार हरतालिका तीज मंगलवार, 30 अगस्त को है।

तृतीया तिथि 29 अगस्त को 03 बजकर 20 मिनट से है. तृतीया तिथि 30 अगस्त को 3 बजकर 33 मिनट पर समाप्त हो रही है.

प्रातःकाल हरितालिका पूजा का शुभ मुहूर्त – सुबह 5 बजकर 58 मिनट से 8 बजकर 31 मिनट तक हो सकता है।
शाम को पूजा का मुहूर्त: शाम 6 बजकर 33 मिनट से रात 8 बजकर 51 मिनट तक प्रदोष काल में है. तीज व्रत का पारण – 31 अगस्त को किया जाएगा

इस दिन भगवान शिव और माता पार्वती के विधिवत पूजन से सुखी दांपत्य जीवन का आशीर्वाद मिलता है। तो आइए जानते हैं हरतालिका तीज व्रत का पूजा विधि…

हरतालिका तीज व्रत की पूजा विधि
व्रत वाले दिन सुबह जल्दी स्नान करके महिलाएं सोलह शृंगार करें। इसके बाद शुद्ध मिट्टी से भगवान शिव, माता पार्वती और गणेश जी की प्रतीकात्मक प्रतिमाएं बनाकर उनकी पूजा करें। पूजा के दौरान भगवान शिव को वस्त्र, चंदन, अक्षत, बेलपत्र, धतूरा, आक का फूल अर्पित करें। इसके बाद माता पार्वती को रोली, कुमकुम, अक्षत, महावर, चूड़ी, बिंदी, मेहंदी, साड़ी आदि सामग्री चढ़ाएं। फिर गणेश जी को भी चंदन, अक्षत, दूर्वा और मिठाई का भोग लगाएं। इसके बाद धूप जलाकर हरितालिका तीज व्रत की कथा सुनें अथवा पढ़ें। तत्पश्चात दीपक जलाकर आरती करें। फिर भगवान से मन ही मन सुखी वैवाहिक जीवन की प्रार्थना करें।

ज्योतिषाचार्य
पंडित आत्मा राम पांडेय “काशी”
संपर्क सूत्र 9838211412, 8707666519,9455522050
कार्यालय – निकट पालीटेक्निक डी 111/4 इंदिरा नगर लखनऊ।
Appointment for Whatsapp no.- 9838211412 .