Tuesday , September 27 2022

युवा छात्रों को ग्रेविटी कोचिंग सेंटर ने झोंक दिया आग के मुहाने पर, प्रशासन की सतर्कता से बच गई तमाम छात्रों की जान

हो सकती थी सूरत की घटना की पुनरावृत्ति

वर्ष 2019 में सूरत में कोचिंग संस्थान की लापरवाही से लगी आग के कारण से 20 से 25 वर्ष के युवा छात्र झुलस कर मर गये थे। (सूरत की फाइल फोटो)

लखनऊ।

आपको याद होगा मई 2019 में गुजरात के सूरत शहर में कोचिंग सेंटर की लापरवाही से 19 युवा छात्रों की आग में जलकर मौत हो गई थी और तमाम छात्र झुलस गये थे, जो जीवित हैं, वह आज भी उस दर्द को भुला नहीं सके हैं। इसलिए हम आपको सावधान कर रहे हैं, अगर आपका बच्चा ग्रेविटी कोचिंग सेंटर में पढ़ रहा हो तो उसे वहां से अभी निकाल लीजिये और किसी अच्छे कोचिंग सेंटर में दाखिला दिलाईये, क्योंकि वहां पर अग्निसुरक्षा इंतजाम वाहहियात हैं। इसकी वजह यह है कि मंगलवार को राजधानी के हजरतगंज शाहनजफ रोड स्थित ग्रेविटी कोचिंग सेंटर में शॉर्ट सर्किट से आग लग गई, जिस समय आग लगी उस वक्त कोचिंग में 100 से अधिक लोग मौजूद थे। हालांकि, आग पर जल्द ही काबू पा लिया गया। मौके पर पहुंचे सीपी एसबी शिरडकर ने खुद माना कि बच्चों को पढ़ाने के नाम पर एक छोटे से कमरे में कोचिंग चलाई जा रही थी, जो किसी भी प्रकार से सुरक्षित नहीं है। लिहाजा कैलाश कला बिल्डिंग को नगर निगम ने सील कर दिया है। हजरतगंज के शाहनजफ रोड स्थित कैलाश कला बिल्डिंग के दूसरे तल पर स्थित ग्रेविटी कोचिंग में सुबह 11:30 पर बिजली मीटर में शॉर्ट सर्किट से आग लग गई थी, जिस समय कोचिंग में आग लगी, उस वक्त कोचिंग में 50 से अधिक बच्चे मौजूद थे. हालांकि मौके पर मौजूद फायर एक्सटिंग्विशर से आग पर काबू पाने के लिए कोशिश की गई। वहीं, कोचिंग में लगी खिड़कियों के कांच तोड़ कर धुंए को निकाला गया।

वाशरूम तोड़कर लगाए गए थे बिजली उपकरण
ग्रेविटी कोचिंग के जिस कमरे में आग लगी थी, वहां वॉशरूम हुआ करता था, लेकिन, कोचिंग प्रबंधन ने उसे तोड़कर बिजली के उपकरण लगवा दिए थे। वॉशरूम का एरिया काफी छोटा था। यही नहीं जिन कमरों में कोचिंग चल रही थी, वहां भी धुंआ निकलने के लिए एक छोटी सी खिड़की के अलावा कोई अन्य जगह नहीं थी।

4 मंजिला बिल्डिंग में चल रहे थे 8 कोचिंग सेंटर
कैलाश कला बिल्डिंग में 4 फ्लोर हैं. इसमें 8 कोचिंग संचालित हो रही हैं. जिस वक्त बिल्डिंग के दूसरे तल पर ग्रेविटी कोचिंग में आग लगी, उस समय पूरी बिल्डिंग में 100 से अधिक लोग मौजूद थे. पुलिस कमिश्नर एसबी शिरडकर ने कहा कि बिल्डिंग में बच्चों को जिस तरह दो हॉल में पढ़ाया जा रहा है, वो किसी भी लिहाज से सुरक्षित नहीं है.

सील होगी कोचिंग की बिल्डिंग: पुलिस कमिश्नर
लखनऊ पुलिस कमिश्नर एसबी शिरोडकर ने बताया कि बिल्डिंग का निर्माण व्यवसायिक इस्तेमाल के लिहाज से नहीं किया गया है. अग्निशमन सुरक्षा के कोई इंतजाम भी नहीं किए गए हैं. छोटे, छोटे कमरों में क्लास चल रही है. खिड़कियां और एमरजेंसी एक्जिट भी नहीं है।

आकाश कोचिंग सेंटर की बिल्डिंग को भी किया सील

लखनऊ। ग्रेविटी कोचिंग सेंटर की तरह आकाश कोचिंग सेंटर में मनमानी पाई गई। लिहाजा बिल्डिंग को सील कर दिया गया है। इस कोचिंग संस्थान में दूर-दराज से आये तमाम छात्र पढ़ते हैं। इन कोचिंग संस्थानों के लिये पैसा ज्यादा अहमियत रखता है, जबकि सरकार के लिए लोगों का जीवन।

जनाब, ग्रेविटी कोचिंग सेंटर की सब ब्रांचों को भी सील करिये

लखनऊ। जिस वजह से हजरतगंज स्थित ग्रेविटी कोचिंग सेंटर को सील किया गया है। उस तरह की खामियां ग्रेविटी कोचिंग सेंटर की गोमती नगर, इंदिरानगर सहित अन्य जगह चलने वाले सब ब्रांचों पर भी है। इसलिए विद्यार्थियों के जीवन को सुरक्षित बचाये रखने के लिए ग्रेविटी कोचिंग सेंटर की अन्य जगहों पर संचालित सब ब्रांचों को भी सील किया जाना आवश्यक है।