Thursday , September 29 2022

उत्तर प्रदेश में सीएम योगी ने जांच एजेंसियों को मीडिया से किया दूर

लखनऊ। उत्तर प्रदेश में किसी भी प्रकरण में जांच कर रही एसआईटी समेत अन्य एजेंसियों को मीडिया सदस्यों को जानकारी देने से मुख्यमंत्री ने मना कर रखा है, क्योंकि जांच प्रभावित होने का खतरा रहता है। यह खुलासा एक्टिविस्ट डॉ. नूतन ठाकुर की ओर से मांगी गई एक जानकारी में हुआ।

एक्टिविस्ट डॉ. नूतन ठाकुर ने बताया कि उत्तर प्रदेश में एसआईटी सहित अन्य एजेंसियों को मीडिया से बातचीत करने तथा जांच की कार्यवाही एवं निष्कर्षों आदि को मीडिया से शेयर करने पर पूर्ण मनाही है, क्योंकि उन्होंने गोंडा में विद्यालयों में अनियमितता के संबंध में की जा रही एसआईटी जांच से संबंधित जानकारी मांगी थी, जिसे एसआईटी के डिप्टी एसपी अशोक कुमार यादव ने मुख्यमंत्री के प्रमुख सचिव एस पी गोयल के आदेश दिनांक 16 नवंबर 2019 के आधार पर देने से मना किया।

इस आदेश में कहा गया है कि मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने अपेक्षा की है कि एसआईटी तथा अन्य जांच एजेंसियां उन्हें दी गयी जांचों की कार्यवाहियों एवं निष्कर्षों को मीडिया से कदापि शेयर नहीं करेंगे और अपनी जांच आख्या डीजीपी या शासन को सुपुर्द करेंगे। जांच एजेंसी के किसी भी व्यक्ति द्वारा मीडिया से न तो बातचीत की जाये और न ही प्रेस नोट जारी किया जाये। यह भी कहा गया कि प्रदेश तथा जिले स्तर पर अधिकृत अफसरों के अलावा कोई भी मीडिया से बातचीत नहीं करेगा। इस आदेश पर गृह विभाग ने सभी जांच एजेंसियों को अपनी ओर से निर्देश जारी किये।