Thursday , October 6 2022

कश्मीर में राहुल भट्ट की मौत के लिए मेरी फिल्म को दोष देना बेतुका-विवेक अग्निहोत्री

मुंबई। फिल्म ‘कश्मीर फाइल्स’ के निर्देशक विवेक अग्निहोत्री ने ‘खुल के’ पर कश्मीरी राजनीतिक दलों की हालिया प्रतिक्रिया के बारे में बात की और बताया कि कैसे वह अंतरराष्ट्रीय मंचों पर कश्मीरी हिंदुओं के दुखद भाग्य के बारे में सच्चाई को उजागर करने के अपने मिशन को जारी रखना चाहते हैं। ‘खुल के’, एक सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म ने निर्देशक विवेक अग्निहोत्री और प्रख्यात पत्रकार मनोज रघुवंशी के साथ एक राउंड टेबिल ‘कश्मीर वार्तालाप’ की मेजबानी की, जो जुलाई 1989 में एक प्रमुख कहानी करने वाले दुनिया के पहले पत्रकार थे कि कश्मीर में आतंकवाद का प्रकोप होगा। बता दें कि मनोज को कुख्यात आतंकवादी बिट्टा कराटे के साथ साक्षात्कार के लिए भी जाना जाता है, जिस पर कश्मीरी पंडितों की हत्या का आरोप लगाया गया था।
विवेक अग्निहोत्री को हाल ही में कश्मीर के राजनीतिक दलों से उनकी फिल्म के लिए भारी आलोचना का सामना करना पड़ रहा है। नकारात्मकता के बारे में बात करते हुए उन्होंने साझा किया कि ‘‘यह बेतुका है कि महबूबा मुफ्ती और कश्मीर में अन्य राजनीतिक दल घाटी में हाल की मौतों के लिए मेरी फिल्म को दोष दे रहे हैं। मेरी फिल्म तथ्यों पर आधारित है और हां पिछली फिल्मों के विपरीत, मैंने न तो आतंकवाद का महिमामंडन किया है और न ही रोमांटिककरण किया है। यह वास्तव में आश्चर्यजनक है क्योंकि ये लोग मेरी फिल्म पर उंगली उठा रहे हैं, ये सभी पढ़े-लिखे व्यक्ति हैं।’’


श्री अग्निहोत्री आगे कहते हैं, ‘‘अरविंद केजरीवाल जिन्होंने फिल्म देखी भी नहीं, उन्होंने कहा कि फिल्म झूठ है। अधिकांश राजनीतिक दलों ने फिल्म के प्रति नकारात्मक रुख दिखाया है, फिर भी कई लोगों ने इसकी सराहना भी की है।’’
विवेक जो अपने मन की बात कहने के लिए जाने जाते हैं, ने कहा कि ‘‘कश्मीर के विनाश का श्रेय कश्मीर के राजनीतिक परिवारों को दिया जा सकता है, चाहे वह मुफ्ती हो या अब्दुल्ला। मैंने कश्मीर की बहुत यात्रा की है और मेरी सेवा करने वाले वेटर से लेकर स्थानीय टैक्सी वाले तक मैंने जिस किसी से भी बातचीत की है, सभी ने सर्वसम्मति से घाटी के पतन और विनाश के लिए कश्मीर के गुप्कर रोड पर रहने वाले लोगों को दोषी ठहराया है।’’


अपनी बातचीत में उन्होंने मीडिया के कुछ वर्गों को सच्चाई को उजागर नहीं करने और अपने स्वयं के एजेंडे को अपनी रिपोर्ट में आगे बढ़ाने के लिए भी दोषी ठहराया। उन्होंने साझा किया, ‘‘कुछ पत्रकार प्रसिद्धि के लिए बढ़े और डीडी युग के बाद, नए केबल समाचार चैनलों के आगमन के दौरान लोगों द्वारा उनकी पूजा की गई। उन्होंने जो कुछ भी रिपोर्ट की और टेलीविजन पर दिखाया उसे पूर्ण सत्य माना गया और किसी को भी उनकी रिपोर्टिंग पर संदेह नहीं हुआ। जब मैं एक बार आईआईएमसी पढ़ाने के लिए गया था, तो पत्रकारिता के छात्रों ने बिना किसी संदेह के इन पत्रकारों के बारे में जानकारी दी। यहां तक ​​कि मैंने बरखा दत्त के समाचार बुलेटिन और रिपोर्टिंग भी देखी हैं और यहां तक ​​कि मेरे जैसे जागरूक व्यक्ति ने भी इसे ही सत्य माना है। हालांकि हाल ही में लोगों ने महसूस किया है कि ये सभी कथा निर्माता हैं और उनके कथन ने केवल उनके गुप्त एजेंडे को आगे बढ़ाया है।’’


अभिनेता त्साही हलेवी ने हाल ही में ‘द कश्मीर फाइल्स’ और उनके व्यापक रूप से प्रशंसित शो फ़ौदा के बीच समानता की ओर इशारा किया था। वह फिल्म से बेहद प्रभावित हुए और प्रदर्शन की प्रशंसा की। विवेक अग्निहोत्री ने उल्लेख किया कि न केवल इजरायल के दर्शकों बल्कि इजरायली खुफिया ने भी इसकी बहुत सराहना की है।
‘खुल के’ एकमात्र ऐसा प्लेटफॉर्म है जो मॉडरेटर और पैनलिस्ट के साथ-साथ दर्शकों के बीच वीडियो, ऑडियो और टेक्स्ट-आधारित बातचीत की अनुमति देता है। मंच ‘बातचीत की शक्ति’ में अपनी नींव रखता है और कलाकारों, प्रभावितों, उद्यमियों, ब्रांडों, उपभोक्ताओं, आपके दोस्तों, या समान विचारधारा वाले व्यक्तियों से निर्बाध सार्थक बातचीत में शामिल होने का आग्रह करता है।


‘द कश्मीर फाइल्स’ के बड़े पैमाने पर स्वागत और लोकप्रियता के बाद, दर्शक अब विवेक अग्निहोत्री के अगले उद्यम का बेसब्री से इंतजार कर रहे हैं। अपनी आगामी परियोजनाओं के बारे में बात करते हुए फिल्म निर्माता विवेक अग्निहोत्री ने बताया कि वह दो फिल्मों पर काम कर रहा हैं, जिनमें से एक दिल्ली फाइल्स है। दूसरी एक असाधारण कहानी है जो भारतीयों के दिलों को अपने देश के लिए गर्व से भर देगी।