Friday , September 30 2022

भगवान श्रीराम की नगरी के विकास में खर्च होंगे 25 हजार करोड़ रुपये

अयोध्या। अयोध्या में 5वां दीपोत्सव तीन दिन बाद है। लेकिन इसके भविष्य का डॉक्यूमेंट आ गया है। असल मायने में यह अयोध्या के लोगों को राज्य सरकार का असली दिवाली गिफ्ट है। अयोध्या के साल 2047 के इस विजन डॉक्यूमेंट में 25 साल बाद की राम नगरी का खाका खींचा गया है। अयोध्या के विकास के इस ब्लूप्रिंट में 25 हजार करोड़ रुपये के 325 प्रोजेक्ट्स शामिल हैं, जो राम नगरी को हेरिटेज और वर्ल्ड क्लास स्मार्ट लुक देंगे।

इन प्रोजेक्ट्स की डेडलाइन साल 2047 रखी गई है यानी आजादी के 100 साल पूरे होने पर। इस प्रोजेक्ट में अयोध्या को देश का सबसे दिव्य और भव्य शहर बनाने का विजन है। 3 नवंबर को अयोध्या में जब मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ दीपोत्सव मनाएंगे, उससे पहले उनके सामने ये विजन डॉक्यूमेंट पेश किया जाएगा। प्रोजेक्ट्स पूरे करने को लेकर अंतिम मुहर लगेगी। इन प्रोजेक्ट्स को स्क्रीन पर देश भर से आए 10 हजार अतिथियों को भी दिखाया जाएगा।

 

पीएम मोदी के खारिज करने पर बदला गया

इसी साल 26 जून को पीएम नरेंद्र मोदी ने वीडियो कॉन्फ्रेंस के जरिए अयोध्या के विजन डॉक्यूमेंट का प्रजेंटेशन देखा था। लेकिन उन्होंने इसे खारिज कर दिया था। उन्होंने इसे नए सिरे से बनाने को लेकर निर्देश और सुझाव दिए थे। अब पीएम के सुझाव के हिसाब से इसमें बदलाव किए गए हैं। दीपोत्सव समारोह के दौरान ही यूपी सरकार 30 मिनट का विजन डॉक्यूमेंट पेश करेगी। इससे जनता को अयोध्या के विकास लेकर सरकार की कोशिश का पता चलेगा।

 

तिरुपति से लेकर वेटिकन सिटी तक के प्रोजेक्ट खंगाले

 

अयोध्या का विजन डॉक्यूमेंट तैयार करने के लिए प्रयागराज, काशी, मथुरा, उज्जैन, तिरूपति, सोमनाथ मंदिर का अध्ययन किया गया।

इसके साथ ही कंबोडिया से लेकर वेटिकन सिटी तक के विकास मॉडल, विकास व बेंचमार्क के भी पन्ने पलटे गए हैं।

अयोध्या विकास प्राधिकरण के उपाध्यक्ष विशाल सिंह के मुताबिक, अयोध्या को मिनी भारत के रूप में प्रोजेक्ट किया जाएगा।

शहर के विकास में आध्यात्मिकता के साथ आधुनिकता के समावेश पर फोकस होगा।

तीर्थ, हैरिटेज और स्मार्ट सिटी का कॉम्बिनेशन वाला होगा नया शहर

 

वैदिक नगर के रूप में विकसित किया जाएगा। रामायण युग के और पौराणिक महत्व वाले जलाशयों, कुंडों, झीलों को संरक्षित किया जाएगा।

समरस शहर बनाने के लिए वाल्मीकि रामायण युग की 88 प्रजातियों के 27000 पेड़ भी लगाए जाएंगे।

स्मार्ट सिटी के तहत इंटेलिजेंस ट्रैफिक मैनेजमेंट सिस्टम, मल्टीलेवल कार पार्किंग, बाहरी रिंग रोड और ग्रीन एनर्जी पर फोकस किया जाएगा।।

7 प्वाइंट में जानिए अयोध्या का विजन-2047 क्या है?

 

विदेशी पर्यटकों से लिया फीडबैक: विजन डॉक्यूमेंट पांच हजार लोगों और 500 दुनिया भर के पर्यटकों के सुझाव के आधार पर तैयार किया गया है। विजन डॉक्यूमेंट पूरे होने से 4 लाख लोगों को सीधे तौर पर रोजगार और 8 लाख से ज्यादा को अप्रत्यक्ष तौर पर रोजगार मिलेगा।

मर्यादा पुरुषोत्तम श्री राम हवाई अड्डा: इसके लिए 79 प्रतिशत भूमि मिल चुकी है।

ग्रीन फील्ड टाउनशिप का प्लान: अयोध्या के अन्दर 12 सौ एकड़ भूमि में नव्य अयोध्या के तहत ग्रीन फील्ड टाउनशिप तैयार की जाएगी। इसमें मठ, आश्रम, राज्य के गेस्ट हाउस, अंतरराष्ट्रीय भवन, हॉस्पिटल, स्कूल, होटल, आवासीय प्लॉट होंगे।

भव्य प्रवेश द्वार बनाए जाएंगे: अयोध्या में चार मुख्य राम द्वार का निर्माण किया जाएगा। गेट का डिजाइन राम मंदिर के डिजाइन से प्रेरित होगा।

पर्यटन सुविधा केंद्र: अयोध्या के हाईवे रूट पर बने 6 प्रवेश द्वारों पर धर्मशाला का निर्माण किया जाएगा। लखनऊ मार्ग पर 600 कमरे, रायबरेली मार्ग पर 200 कमरे, प्रयागराज मार्ग पर 200 कमरे, आजमगढ़ मार्ग पर 250 कमरे, गोंडा मार्ग पर 370 कमरे, गोरखपुर मार्ग पर 210 कमरे होंगे।

अंतरराष्ट्रीय संग्रहालय: उत्तर प्रदेश पर्यटन विभाग और संस्कृति विभाग 200 करोड़ की लागत से पर्यटन सुविधा केंद्र और अंतरराष्ट्रीय संग्रहालय का निर्माण करेंगे।

रिवर फ्रंट डेवलपमेंट: सरयू तट डेवलपमेंट की भी योजना है, जिसमें 2300 एकड़ में रामायण स्प्रिचुअल फॉरेस्ट तैयार किया जाएगा। इसमें रामायण स्प्रिरिचुअल थीम पार्क भी होगा।